नमिश के साथ मेरी केमिस्ट्री बहुत वास्तविक लगती है- नीलू वाघेला

मुंबई: भारतीय टेलीविजन पर जोड़ियां अपने दर्शकों के दिलों में जगह बनाने की कोशिश करती हैं। हालांकि, यह बहुत बार नहीं है कि एक माँ-बेटे की जोड़ी को इतना प्यार मिला है कि इसे लोकप्रिय मांग के कारण स्क्रीन पर वापस लाया गया है। नमिश तनेजा और नीलू वाघेला की जोड़ी को पहले एक शो में माँ और दामाद के रूप में इतना अधिक पसंद किया गया था, कि उन्हें दंगल के एक नए शो, ऐ मेरे हमसफ़र  में वापस लाया गया है, लेकिन इस बार एक माँ और बेटे का घनिष्ठ  बंधन  के साथ।

      नमिश के साथ एक बार फिर काम करने के बारे में बात करते हुए नीलू वाघेला कहती हैं कि मैंने पहले से ही इस शो के ज्यादातर कलाकारों के साथ काम किया है। इसलिए, यह अपने ही परिवार में वापस आने जैसा लग रहा है। नमिश और मैं एक माँ-बेटे की जोड़ी के रूप में एक साथ वापस आए हैं और हमारी केमिस्ट्री बहुत वास्तविक लग रही है। मैं उसके साथ वैसा ही व्यवहार करती हूं जैसा मैं अपने बेटे के साथ करती हूं। वास्तव में, एक दृश्य के लिए जब मुझे उस पर अपना हाथ उठाना पड़ा, तो मुझे बहुत बुरा लगा, मुझे ऐसा लगा जैसे मैं अपने बेटे के साथ इस तरफ व्यवहार कर रही हूं। मुझे शांत होने और खुद को समझने के लिए एक मिनट लेना पड़ा कि यह सिर्फ एक शॉट था। नमिश मुझे प्यार से मां कह कर ऑफ-स्क्रीन भी संबोधित करते हैं।

   नमिष तनेजा ने साझा किया कि वेद की भूमिका को स्वीकार करने का एक कारण यह था कि नीलू वाघेला उनकी माँ की भूमिका में होंगी। वह कहते हैं कि पिछले शो में हमारी केमिस्ट्री को आज भी बहुत प्यार मिल रहा है। हमने कभी नहीं सोचा था कि हमें दोबारा साथ काम करने का मौका मिलेगा। जब मुझे ऐ मेरे हमसफ़र के लिए चुना गया था, मुझे बताया गया था कि नीलू मैम भी शो का हिस्सा थीं। यह पता लगने पर मैंने उन्हें फोन करके पूछा था। जिस पल उन्होंने पुष्टि की,  मेरे चेहरे पर एक बड़ी मुस्कान आ गई। यह एक सोने पे सुहागा की तरह लगा और शो को हा केहने के फैसले को मजबूत किया। मैं उनकी उपस्थिति को एक आशीर्वाद मानता हूं और वह मुझे अपने बेटे की तरह मानते हैं और मुझे इतनी अच्छी तरह समझते हैं।