पीडब्ल्यूडी के कार्यों में गुणवत्ता के लिए निगरानी बढ़ाएं - प्रमुख शासन सचिव, पीडब्ल्यूडी

सार्वजनिक निर्माण विभाग के प्रमुख शासन सचिव तथा आरएसआरडीसी के चेयरमैन श्री राजेश यादव ने कहा कि विभाग द्वारा किए जाने वाले भवन निर्माण, मरम्मत तथा संधारण के कार्यों में गुणवत्ता सुनि6िचत करने के लिए मुख्य अभियंता स्तर से लेकर सहायक अभियंता स्तर तक निगरानी को बढ़ाया जाएगा। उन्होंने मुख्य अभियंता (भवन) तथा मुख्य अभियंता (क्वालिटी कंट्रोल) को इस सम्बंध में एक-एक राज्य स्तरीय कमेटी गठित करने के भी निर्दे6ा दिए हैं।

श्री यादव बुधवार को आरएसआरडीसी के सभा भवन में पीडब्ल्यूडी के मुख्य अभियंताओं की बैठक में विभाग की भवन, क्वालिटी कंट्रोल तथा इलेक्टि्रकल विंग के कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने निर्देश दिए कि यह समितियां सड़क निर्माण में गुणवत्ता के साथ-साथ भवन निर्माण और मरम्मत में लिपाई, पुताई व रंग-रोगन से लेकर भवनों में लगने वाले सैनेटरी मैटेरियल तक की गुणवत्ता सुनि6िचत करने सम्बंधी रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगी।

श्री यादव ने कहा कि भवन निर्माण एवं मरम्मत में समुचित गुणवत्ता के सामान लगाए जाएं ताकि बार-बार मेंटेनेंस के कार्य नहीं करने पड़ें और दीर्घकाल में मेंटेनेंस की लागत को कम किया जा सके।

क्वालिटी कंट्रोल के लिए इंटर-सर्किल निरीक्षण होंगे

क्वालिटी कंट्रोल कार्यों की समीक्षा के दौरान श्री यादव ने निर्दे6ा दिए कि सड़क निर्माण में गुणवत्ता सुनि6िचत करने के लिए सर्किल स्तर की निरीक्षण प्रक्रिया का ऑनलाइन मॉनिटरिंग सिस्टम विकसित किया जाए। उन्होंने कहा कि गुणवत्ता की जांच को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए एक सर्किल के कार्यों के निरीक्षण दूसरे सर्किल के अभियंताओं से भी कराए जाएं।

श्री यादव ने इससे पूर्व आरएसआरडीसी के कार्यों की भी समीक्षा की। इस अवसर पर पीडब्ल्यूडी के शासन सचिव श्री चिन्न हरी मीणा, आरएसआरडीसी के एमडी श्री राकेश भंडारी तथा अन्य मुख्य अभियंता एवं अधीक्षण अभियंता भी उपस्थित थे।