स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण का द्वितीय चरण जिला परियोजना समन्वयक 31 दिसम्बर तक स्वच्छता गतिविधियों का मैप तैयार कर प्रस्तुत करें

 ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव, श्री रोहित कुमार सिहं ने जिला परियोजना समन्वयकों-प्रभारी अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि वे ठोस एवं तरल कचरा प्रबन्घन की प्रभावी क्रियान्विति सुनिश्चित्त करनें के लिये 31 दिसम्बर तक गूगल मैप पर सभी गतिविधियों को अंकित कर स्वच्छता मैप तैयार कर प्रस्तुत करें।

श्री सिहं गुरूवार को यहां इंदिरा गांधी पंचायती राज संस्थान में स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण द्वितीय चरण के अन्तर्गत ठोस एवं तरल कचरा प्रबन्धन पर दो दिवसय आमुखीकरण कार्यशाला का उद्द्याटन करने के पश्चात्त प्रतिभागियों को संबोधित कर रहे थे। 

अतिरिक्त मुख्य सचिव ने 33 जिलों से आये सभी प्रतिभागियों को निर्देश दिये कि वे प्रत्येक पंचायत समिति में 5 गांवों की डीपीआर, ग्रामीण जन सहभागिता गतिविधि अपनाते हुए तैयार करें साथ ही गांवों की जीयो टेगड फोटो नियमित रूप से स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण निदेशालय को उपलब्ध करवायें । 

उन्होने निर्देश दिये कि परियोजना समन्वयकों को संबधित जिलें के प्रत्येक ब्लॉक में कचरे, नालियों आदि की स्थिति की रिपोर्ट तैयार करनी  होगी व जनवरी माह के आरम्भ में प्रत्येक परियोजना समन्वयक-प्रभारी अधिकारी को जयपुर में बुलाकर उक्त डीपीआर का प्रस्तुतिकरण करना होगा व श्रेष्ठ कार्य करने वाले समन्वयक को लेपटॉप दिया जायेगा।

उन्होंने कहा कि परियोजना समन्वयकों की सुविधा के लिये प्रशिक्षण वीडियो बनवाये जा रहे है।

श्री सिंह ने प्रतिभागियों को स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के तहत गांवों को स्वच्छ व सुन्दर बनाने की प्रधानमंत्री व मुख्य मंत्री की भावना व प्राथमिकता से अवगत करवाया । 

उन्होंने कहा कि ठोस एवं तरल कचरा प्रबन्धन परियोजना को अमली जामा पहनाना उनकी भी पहली प्राथमिकता है ।

श्री सिंह ने जिला परियोजना समन्वयकों को आह्वान किया कि स्वच्छता से जुड़ा यह कार्य बहुत ही पुनीत कार्य है व वे इसे पूरे मन से व कर्मठता से अन्जाम देंगें तो आने वाली पीढ़ियां उन्हें याद करेगीं । 

कार्यशाला में निदेशक स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण श्री विश्व मोहन शर्मा ने प्रतिभागी समन्वयकों को ठोस एवं तरल कचरा प्रबन्घन के क्रियान्वयन की रणनीति बताई व तरल कचरे का उपचार स्त्रोत के जितना नजदीक संभव हो सके करने, नयी नालियों का निर्माण की जरूरत कम से कम रहे व मलयुक्त कीचड़ प्रबन्धन के बारे में मार्गदर्शन दिया।

इस अवसर पर जिला परिषद जयर्पु के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री अतहर आमिर खान व अन्य विषय विशेषज्ञों ने ठोस कचरा प्रबन्घन की आवश्यकता, अवधारण, तकनीकी एवं विकल्प, प्रश्नोत्तरी, सफाईकर्मी की स्थिति,  प्रावधान, अन्य योजना के साथ समन्वय व वित्तीय प्रावधान आदि के बारे में विस्तार से प्रशिक्षण दिया।