जयपुर जिले की तीनों पंचायत समितियों का औसत मतदान 84 प्रतिशत से अधिक रहा मास्क सेनेटाइजेशन सोशल डिस्टेंसिंग की पालना पर रहा जोर मतदान प्रतिशत  आंधी 85.07 किशनगढ़-रेनवाल 81.58 फागी 86.39

 पंचायत आम चुनाव -2020 के प्रथम चरण में सोमवार को जयपुर जिले की आंधी, किशनगढ-रेनवाल एवं फागी पंचायत समितियों की 70 ग्राम पंचायतों में पंच-सरपंच का निर्वाचन शांतिपूर्ण एवं व्यवस्थित तरीके से सम्पन्न हुआ। मतदाताओं में इन चुनाव के प्रति खासा रूझान नजर आया। मतदाताओं को ‘‘नो मास्क नो एन्ट्री’’ के अनुसार मास्क पहनने के बाद ही मतदान केन्द्र में प्रवेश दिया गया।  मतदान पूर्व हाथों को सेनेटाइज कराने, सोशल डिस्टेंस को लेकर मतदाताओं में भी खासी जागरूकता देखी गई। 

प्रथम चरण के चुनाव पे्रक्षक श्री बिष्णुचरण मल्लिक एवं जिला निर्वाचन अधिकारी एवं जिला कलक्टर श्री अन्तर सिंह नेहरा ने स्वयं कई मतदान केन्द्रों का दौरा कर मतदान प्रक्रिया का निरीक्षण किया। 

सुबह से ही मतदाता अपनी पसंद का पंच-सरपंच चुनने के लिए मतदान केन्द्रों पर पहुंचने शुरू हो गए थे। प्रातः 10 बजे तक आंधी पंचायत समिति में 18.82 प्रतिशत, किशनगढ-रेनवाल पंचायत समिति में 16.28 एवं फागी पंचायत समिति मेंं 18.82 प्रतिशत मतदान हो चुका था। दोपहर 12 बजे तक इसके दोगुने मतदाता अपने मतदाधिकार का प्रयोग कर चुके थे। तब आंधी मेंं 38.28, किशनगढ-रेनवाल में 31.74 एवं फागी में 39.29 प्रतिशत मतदाता मताधिकार का उपयोग कर चुके थे। इसी प्रकार दोपहर 3 बजे तक आंधी में 65.19, किशनगढ रेनवाल में 58.79 एवं फागी में मतदान प्रतिशत 67.37 हो चुका था। शाम 5ः30 बजे तक आंधी में 84.53, किशनगढ रेनवाल में 79.07 एवं फागी में 81.96 प्रतिशत मतदान हो चुका था। मतदान समाप्त होने के बाद आंधी में कुल मतदान 85.07 प्रतिशत एवं फागी में 86.39 प्रतिशत रहा एवं किशनगढ-रेनवाल में कुल 81.58 प्रतिशत मतदान हुआ।

चुनाव प्रेक्षक श्री मल्लिक ने किशनगढ-रेनवाल की मलिकपुरा, मुुंडोती, आंधी पंचायत समिति की आंधी, सानकोटड़ा, भावनी, रायसर, बहलोड़ आदि मतदान केन्द्रों एवं फागी पंचायत समिति की कई ग्राम पंचायतों का निरीक्षण किया। 

जिला निर्वाचन अधिकारी श्री नेहरा ने भी किशनगढ-रेनवाल की पचकोड़िया, रेनवाल सहित कई मतदान केन्द्रों का निरीक्षण किया। 

माइकिंग से किया जागरूक, मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग आई नजर

इस बार के मतदान में कोविड प्रोटोकॉल की पालना पर विशेष ध्यान दिया गया। प्रशासन, पुलिस एवं स्वयंसेवकों द्वारा मतदाताओं को मास्क लगाने, सोशल डिस्टेंसिंग की पालना, हाथों को सेनेटाइज करने के लिए लगातार माइकिंग के जरिए जागरूक किया गया। मतदान केन्द्रों में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना के लिए पहले से ही गोले बनवा दिए गए थे। मतदान केन्द्र में प्रवेश के साथ और बूथ में प्रवेश के साथ भी मतदाताओं के हाथों को सेेनेटाइज कराया जा रहा था। राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा प्रदत्त पोस्टर ‘‘कोरोना से बचाव भी और पंचायत चुनाव भी’’ मतदान केन्द्रों पर लगे नजर आए।